Friday, August 7, 2015

ग़ज़ल






यूँ ना जागती रातों में लिखता ग़ज़ल कोई, 
गर मिल जाती मंज़िल-ए-मोहब्बत सबको ....
-आलोक उपाध्याय 
Powered by Blogger.